डेविस कप टेनिस के क्वालीपफाइंग मुकाबलों के लिए रोहित राजपाल को भारतीय टीम का गैर खिलाड़ी कप्तान बनाने पर विवाद उठे हैं। वहीं दूसरी ओर अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) ने साफ कर दिया है कि पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले डेविस कप टेनिस क्वालीफाइंग मुकाबले में राजपाल ही गैर खिलाड़ी कप्तान रहेंगे। इससे पहले अनुभवी खिलाड़ी महेश भूपति ने कहा था कि जब तक आधिकारिक रुप से जानकारी नहीं मिलती वह ही कप्तान बने रहेंगे। इस प्रकार गैर खिलाड़ी कप्तान पद से भूपति की विदायी हो गयी है। एआईटीए ने कहा है कि संघ का राजपाल को कप्तान नियुक्त करने का फैसला कायम रहेगा। एआईटीए के महासचिव हिरनमॉय चटर्जी ने कहा, ‘पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले डेविस कप मुकाबले की जहां तक बात है तो इस मैच के लिए कप्तान को लेकर कोई बदलाव नहीं होगा।’ चटर्जी ने बताया कि भूपति का करार पहले ही खत्म हो गया है और इटली के खिलाफ फरवरी में कोलकाता में खेले गए मैच में उनके कार्यकाल को विस्तार दिया गया था। उन्होंने कहा, ‘उनका करार 2018 में ही खत्म हो गया था। उन्होंने अपने आप को पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले मैच के लिए उपलब्ध नहीं बताया था, इसलिए हमने उन्हें बदल दिया।’ 
तटस्थ स्थल पर हो रहा मैच 
इससे पहले भारत ने मैच के लिए सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए पाकिस्तान जाने से इनकार कर दिया था और इसी कारण कई खिलाड़ियों ने मैच के लिए अपने आप को अनुपलब्ध बताया था। इनमें भूपति के अलावा टीम के सीनियर खिलाड़ी रोहन बोपन्ना भी शामिल हैं। अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ (आईटीएफ) ने हालांकि मैच को तटस्थ स्थान को आयोजित कराने का फैसला लिया है, लेकिन एआईटीए की योजनाओं में इससे कोई बदलाव नहीं होने जा रहा है।
बोपन्ना ने जतायी नाराजगी 
एआईटीए के इस फैसले से दिग्गज टेनिस स्टार रोहन बोपन्ना हैरान हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए खिलाड़ियों से इस फैसले के बारे में राय नहीं पूछे जाने पर नाराजगी जताई है। बोपन्ना ने अपने ट्वीट में लिखा-मैं हैरान हूं कि आईटीएफ का अंतिम फैसला आने से पहले ही एआईटीए ने कप्तान बदलने का फैसला ले लिया। मैं इस बात से और भी हैरान हूं कि इस बारे में किसी खिलाड़ी से राय नहीं ली गई और न ही बताया गया कि कप्तान बदला जा रहा है। बता दें कि इस तरह की अटकलें थी कि अनुभवी लिएंडर पेस को इस पद के लिए चुना जा सकता है, क्योंकि शीर्ष खिलाड़ियों और कप्तान महेश भूपति के हटने के बाद उन्होंने स्वयं को उपलब्ध रखा था।