रायपुर,राज्यपाल सुअनुसुईया उइके ने कल इंडोर स्टेडियम में आयोजित देसी टॉक कवि सम्मेलन का शुभांरभ किया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने की। इस अवसर पर राज्यपाल सुउइके ने संबोधित करते हुए कहा कि साहित्य जगत में ऐसा माना जाता है कि जहां रवि नहीं पहुंच पाता है, वहां कवि पहुंच जाते हैं। कवि और उसकी कविता समाज का दर्पण होता है।

समाज में जो भी घटना घटती है या परिवर्तन आता है उसे वह देखता है उसको अपनी कविता के माध्यम से सभी के समक्ष प्रस्तुत करता है। कविता के माध्यम से कही गई बातें सभी व्यक्तियों के दिलों-दिमाग तक पहुंच जाती है और व्यक्ति उस पर आचरण करना प्रारंभ कर देता है। इसलिए कवियों को चाहिए कि वे समाज के समक्ष उन सभी बातों और परिवर्तनों को लाएं जो आदर्श समाज के निर्माण के लिये आवश्यक हों।  

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कई प्रतिष्ठित कवि हुए हैं, जिन्होंने प्रदेश का मान बढ़ाया है, उन्हें मैं नमन करता हूं। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे, पूर्व मंत्री एवं विधायक सत्यनारायण शर्मा, बृजमोहन अग्रवाल, प्रेमप्रकाश पाण्डेय, विधायक कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय सहित राज्यपाल के सचिव सोनमणि बोरा भी उपस्थित थे। आयोजकों ने राज्यपाल और मुख्यमंत्री सहित अन्य अतिथियों को प्रतीक चिन्ह भेंट किया। कवि सम्मेलन में विख्यात कवि डॉ. कुमार विश्वास ने काव्यपाठ से समा बांधा। साथ ही पद्मसुरेंद्र दुबे, सर्वमीर अली मीर, विनीत चौहान, रमेश मुस्कान, अंकिता सिंह, किशोर तिवारी, पद्मलोचन शर्मा अपनी रचनाओं की प्रस्तुति दी।