उत्तराखंड से लेकर हिमाचल तक पिछले 48 घंटों में भारी बर्फबारी देखने को मिली है. उत्तराखंड का औली तो पूरी तरह बर्फ के चादर में ढक गया. पहाड़ों में बर्फबारी के अलावा दिल्ली-एनसीआर में भी मौसम ने करवट ली. गिरते तापमान के बीच कई इलाकों में पूरे दिन बारिश हुई और ओले पड़े. आइए देखते हैं औली और हिमाचल देश के अन्य हिस्सों में बर्फबारी ने किस कदर मौसम बदल डाला.


नरकंडा-
हिमाचल प्रदेश के नरकंडा में मानो सबकुछ जम गया है. सिर्फ 24 घंटे में ही मौसम इतनी तेजी से बदला कि सूबे की सूरत ही बदल गई. चारों तरफ सिर्फ बर्फ ही बर्फ नजर आ रही है. पेड़ पौधे बर्फ में जमे हुए हैं, मकानों पर मोटी परत चढ़ी हुई है और सड़कें बर्फ की नदी बन चुकी हैं.

मनाली-
मनाली में गुरुवार को मौसम की पहली बर्फबारी ही इतनी जोरदार हुई कि लोगों को हिमयुग का एहसास करा दिया. सैलानियों की तो मौज है लेकिन स्थानीय लोगों के आफत के दिन शुरु हो गए. कुल्लू को लाहौल स्पीति से जोड़ने वाले रोहतांग दर्रे पर 3 से 4 फुट बर्फ जम गई है. बाकी रास्ते भी ठप पड़ गए हैं.

हिमाचल-
हिमाचल के सिरमौर का ये नजारा जितना दिलकश है, हकीकत में उतनी ही मुसीबतों का सबब. पेड़ पौधे बर्फ की जकड़ में अकड़ गए हैं. सिरमौर के चूड़धार में 24 घंटे में ही तीन फुट से ज्यादा बर्फबारी हो गई. ऐसे हालात में स्थानीय लोगों के लिए पीने का पानी जुटाना भी चुनौती है, क्योंकि पानी जहां भी है जम चुका है.

केदारनाथ-
केदारनाथ में बर्फबारी नवंबर में ही शुरू हो गई थी लेकिन गुरुवार को शुरु हुआ बर्फबारी का दूसरा दौर और भी भीषण है. पुनर्निर्माण के सारे काम ठप पड़ गए हैं. तापमान माइनस 7 डिग्री तक चला गया है. करीब करीब पूरे उत्तराखंड में 48 घंटों तक तेज बर्फबारी का अलर्ट है.