जयपुर । हत्या की दो अलग-अलग वारदातों का खुलासा कर भरतपुर जिले की सेवर पुलिस ने सीरियल किलर सहित 5 बदमाशो को  गिरफ्तार किया है। मुख्य अभियुक्त ने नौकरी लगवाने के बहाने कईयों से रूपये लिए फिर उन्हें मौज मस्ती में उड़ा दिए । तंगहाली हुई तो लूट का रास्ता पकड लिया था। पहचान उजागर ना हो इसलिए आरोपियों ने दोनों वारदातों में लूट के शिकार व्यक्तियों को मौत के घाट उतार दिया।
      पुलिस अधीक्षक भरतपुर श्री हैदर अली जैदी ने बताया कि थाना मथुरागेट में दर्ज गुमशदा चिकसाना निवासी टैम्पो चालक चरनसिंह उर्फ माधो पुत्र रघुवीर बाबरिया का शव 17 सितम्बर 19 को मथुरा बाईपास पर यूआईटी के खाली भूखण्ड में तथा थाना सेवर क्षेत्र के गिरधरपुर टोल प्लाजा के पास खेतों में ग्राम अनाह थाना सेवर निवासी ट्रैक्टर-ट्रौली  चालक मोतीसिंह पुत्र किशनसिंह जाट का शव 11 अक्टूबर को बरामद हुआ था जिसके सिर में गोली मारी गई थी। दोनों ही प्रकरणों में मौके से ट्रेक्टर ओर टैम्पो गायब मिले।
      वारदातों की गम्भीरता को देखते हुये पुलिस अधीक्षक श्री जैदी ने अति पुलिस अधीक्षक डॉ मूलसिंह राणा के निर्देशन व वृत्ताधिकारी वृत ग्रामीण श्री परमालसिंह गुर्जर के निकट सुपरविजन में एक विशेष टीम गठित कर मुल्जिमों की गिरफ्तारी एवं माल की बरामदगी के सख्त निर्देश प्रदान किये। 
      श्री जैदी ने बताया कि सेवर थानाधिकारी श्री दौलतराम गुर्जर की टीम ने सभी महत्वपूर्ण कडियों को जोडकर एवं वैज्ञानिक तरीके से साक्ष्य संकलित करते हुये दोनों वारदातो के मास्टर माइण्ड सीरियल किलर प्रहलाद पुत्र हजारी मीना (21) निवासी खरैरा थाना उच्चैन सहित कुल 5 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है। बारदातों के खुलासे में साईक्लोन सैल के कानि श्री पदमसिंह द्वारा कारगर तथ्य जुटाये गये।
”रिक्रियेटिव थ्योरी“ से जुटाये गये विश्वसनीय तथ्यः-
       गिरफ्तार मुख्य अभियुक्त प्रहलाद गिरफ्तारी के पश्चात पुलिस को पूछताछ के दौरान दिशा भ्रमित करने का प्रयास करता रहा। जिससे अनुसंधान के दौरान सीन रिक्रियेटिव थ्योरी की सहायता से अभियुक्त द्वारा बताये गये तथ्यों का परीक्षण करते हुये दोनों प्रकरणों में विश्वसनीय तथ्य जुटाये जाकर अन्य आरोपियों की सहभागिता व लूट कर ले जाये गये टैम्पू व ट्रैक्टर-ट्रौली की बरामदगियां सुनिश्चित की गई।
तरीका वारदातः-
प्रथम वारदात में मुख्य अभियुक्त प्रहलाद ने 16 सितम्बर,2019 की शाम रेलवे स्टेशन भरतपुर से सेवर के लिए मृतक चरनसिंह उर्फ माधो का टैम्पो लिया। रास्ते मे दोस्ती गांठ शराब पी। तत्पश्चात वारदात स्थल लाकर नशे की हालत में टैम्पू चालक का रस्सी से गला घोंटकर हत्या करने के पश्चात टैम्पू अपने आपराधिक साझीदार पुष्पेन्द्र उर्फ पुस्सी व प्रदीप पुत्र सुखवीर को देकर उससे पांच हजार रूपये प्राप्त कर लिये। 
     द्वितीय वारदात में प्रहलाद मीना ने अपने साथी मनोज जाटव के साथ ट्रैक्टर-ट्रौली में ईंट भरकर आ मोती सिंह को महाराजसर गांव के पास रोककर ईंटे खरीदने की बात कह पता बताने के बहाने खेतों में ले जाकर पीछे से सिर में कट्टे से गोली मार दी। फिर ट्रैक्टर-ट्रोली को कुम्हेर की ले जाकर दिवाकर पुत्र कप्तानसिंह जाट निवासी नगला धौर थाना उच्चैन को दे दिया।
गिरफ्तार किये गये आरोपीः-
सेवर पुलिस ने प्रथम वारदात में प्रहलाद पुत्र हजारी मीना (21) निवासी खरैरा थाना उच्चैन हाल गांधीनगर थाना सेवर, पुष्पेन्द्र उर्फ पुस्सी पुत्र फतेहसिंह प्रजापत (22) निवासी अनाहगेट थाना अटलवन्द व प्रदीप पुत्र सुखवीर जाट (40) निवासी जहाँगीरपुर थाना लखनपुर हाल सुभाषनगर थाना कोतवाली भरतपुर को तथा द्वितीय वारदात में मुख्य आरोपी प्रहलाद के साथ सह आरोपी मनोज पुत्र विजयसिंह जाटव (20) निवासी विजयनगर थाना अटलवन्द व दिवाकर पुत्र कप्तानसिंह जाट (22) निवासी नगला धौर थाना उच्चैन हाल गांधीनगर थाना सेवर को गिरफ्तार कर अभियुक्तों के कब्जे से लूटे गये टैम्पू एवं ट्रैक्टर-ट्रौली को बरामद किया जा चुका है ।
नौकरी लगवाने के बहाने कईयों से लिये रूपये, उडाये मौज मस्ती में, फिर तंगहाली हुई तो पकडा लूट का रास्ताः-
 दोनों प्रकरणों में गिरफ्तार मुख्य अभियुक्त प्रहलाद मीना ने प्रारम्भिक पूछताछ में बताया कि उसने कई लडकों को नौकरी लगवाने के बहाने रूपये प्राप्त किये थे। जो उसने मौज मस्ती में दोस्तों पर उडा दिये। उसके बाद वह कर्जदार हो गया और शौक करने के लिये रूपये नही होने पर उसने लूट का रास्ता अपना लिया। उसकी पहचान उजागर नही हो इसलिए उसने लूट के शिकार लोगों को मार दिया।
पकडा नही जाता तो देता अगली वारदात को अन्जामः- 
     पूछताछ के दौरान मास्टर माइण्ड प्रहलाद मीना ने बताया कि उसे नशे की लत के कारण खर्चा खत्म होते ही रूपयों की आवश्यकता पडती है। और इसी कारण वह अगले कुछ दिनों में और किसी वारदात को अन्जाम देने का मानस बना रहा था।