जयपुर । सरकारी स्कूलों में पढऩे वाली हजारों बेटियों को अब भी साइकिलों का इंतजार है ये साइकिले बेटियों को स्कूल आने जाने के लिए दी जाती है, लेकिन अभी तक बेटियों को साईकिल नहीं मिली है जबकि सत्र मई में ही शुरू हो गया। कक्षा 9 में प्रवेश लेने वाली बेटियों को ये साइकिले दी जाती है।
साइकिले विभाग ने खरीद ली है और तैयार हो रही लेकिन अभी बंटने में समय लगेगा इस बार साइकिल वितरण में देरी का एक कारण रंग भी माना जा रहा है भाजपा शासन में साइकिले भगवा रंग की थी जबकि इस बार से काले रंग की साइकिले छात्राओं को दी जाएगी सत्र शुरू होने के साथ ही छात्राओं को साइकिले मिल जानी चाहिए लेकिन सरकार और विभाग के अधिकारियों की लापरवाही से हर साल साइकिल वितरण में देरी होती है इस बार साइकिले आ गई है अब इन्हें तैयार किया जा रहा है कई जिलो में नोडल केन्द्रो पर भी साइकिलें पहुंच गई है बेटियों को स्कूल आने जाने के लिए दी जाने वाली साइकिलों की योजना 2014 से शुरू हुई थी उस समय इनकी कीमत 2766 रूपए प्रति साइेिकल थी जो अब बढकर 3346 रूपए हो गई है इस बार विभाग ने करीब साढे तीन लाख से अधिक साइकिले खरीदी है पिछले वर्षो के मुकाबले साइकिल महंगी होकर भी अभी तक बेटियों के हाथो से दूर है।