अजमेर. राजस्थान के अजमेर (Ajmer) शहर में रविवार को तय दिलशाद और सईद रफीक का निकाह (Wedding) नहीं हो सका. 3 महीने पहले हुई सगाई के बाद से दोनों पक्षों की ओर से इस शादी की तैयारियां धूमधाम से की जा रही थी लेकिन शनिवार रात को दूल्हे के घरवारों की दहेज (Dowry) की मांग ने सारी खुशियों पर पानी फेर दिया. लड़की वाले 5 लाख रुपए की दहेज की मांग (Demanded Rs 5 Lakh) पूरी करने में असमर्थता जाहिर करने दूल्हे के घर पहुंचे, लेकिन बात नहीं बनी. आखिर दहेज के चलते निकाह होने से पहले ही दोनों परिवारों के बीच नाता टूट गया और सबसे ज्यादा धक्का दुल्हन को लगा. हालांकि इस समय भी दिलशाद ने हिम्मत नहीं हारी और निकाह से इनकार करते हुए दहेज के लोभियों को सबक सिखाने गंज थाने (Ganj Police Station) पहुंच गईं. दिलशाद की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

जानकारी के अनुसार यह पूरा मामला अजमेर की जनकपुरी इलाके का है. यहां दिलशाद नाम की लड़की की शादी नागफनी इलाके के सईद रफीक से होनी तय हुई थी. रविवार रात को बारात आनी थी और रात 8 बजे निकाह की रस्म होनी थी. इसके लिए दिलशाद के परिजनों ने सभी तैयारियां भी पूरी कर ली थी लेकिन निकाह से पहले ही एक फोन ने सारी खुशियां काफूर कर दी.

दूल्हे के पिता ने 5 लाख रुपए मांगे


दिलशाद के परिजन जब शादी के लिए अन्य कामों में व्यस्त थे तभी शनिवार रात को रफीक और उसके पिता ने दिलशाद के पिता को फोन किया. यह फोन दहेज के लिए था. उनकी ओर से 5 लाख रुपए देने की डिमांड रखी गई. दहेज की मांग सुनकर दुल्हन दिलशाद के पिता और उसके भाई के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई. परिजनों ने मामले को लेकर दूल्हे सहित उसके परिवार से बातचीत की और 1 लाख रुपए तक की व्यवस्था करने को तैयार हुए लेकिन दूल्हे का परिवान नहीं माना.

दिलशान का निकाह से इनकार, थाने पहुंची

दूल्हे के परिवार के दहेज की मांग पर अड़े रहने पर दिलशाद ने इस शादी से इनकार कर दिया और दहेज़ लोभियों के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज कराने गंज पुलिस स्टेशन पहुंच गईं. थानाप्रथारी जयसिंह के अनुसार दिलशाद की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है.