माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को सरस्वती की पूजा के दिन रूप में भी मनाया जाता है। बसंत पंचमी को सरस्वती देवी का दिन भी माना जाता है। इस बार बसंत पंचमी 29 जनवरी 2020 को है। धार्मिक ग्रंथों में ऐसी मान्यता है कि इसी दिन शब्दों की शक्ति ने मनुष्य के जीवन में प्रवेश किया था।

शास्त्रों में बसंत पंचमी के दिन कई नियम बनाए गए हैं जिसका पालन करने से मां सरस्वती प्रसन्न होती हैं। बसंत पंचमी के दिन पीले वस्त्र पहनना चाहिए और मां सरस्वती की पीले और सफेद रंग के फूलों से पूजा करनी चाहिए। बसंत पंचमी के दिन यदि कोई छात्र मां सरस्वती की अराधना करे, उनके मंत्र का जाप करे या कोई अन्य उपाय करे तो मां सरस्वती की विशेष कृपा प्राप्त होती है।
विद्या और बुद्धि की प्राप्ति के लिए इस दिन करें ये काम…

अपनी किताबों में बसंत पंचमी के दिन मोर पंख जरूर रखना चाहिए. मान्यता है कि इससे पढ़ने में मन लगता है। पढ़ाई पर फोकस भी बढ़ता है।
बच्चों की बुदि्ध तेज करने के लिए बसंत पंचमी के दिन से ही ब्राह्मी, शंखपुष्पी या मेधावटी देना आरंभ करना चाहिए।
जिन बच्चों को हकलाने या बोलने में दिक्कत होती है उन्हें इस दिन बांसुरी के छेद से शहद भरकर उसे मोम से बंद कराकर जमीन में गाड़ देना चाहिए। ऐसा करने से बच्चों के बोलने की दिक्कत दूर होती है।
बसंत पंचमी के दिन सुबह उठकर बच्चों को अपनी हथेलियां देखनी चाहिए। मान्यता है कि हथेली में मां सरस्वती का वास होता है जिनकों देखना मां सरस्वती के दर्शन करने के बराबर होता है।
जिन लोगों को बोलने में दिक्कत हो उन्हें बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा करने के बाद बीज मंत्र 'ऐं' का जाप जीभ को तालु में लगाकर करना चाहिए।