इंदौर.सागर (sagar) में जिंदा जलाए गए युवक की मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. बीजेपी (bjp) अब इस मुद्दे पर आज फिर पूरे प्रदेश में आंदोलन कर रही है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने इंदौर में कहा कि वास्तव में ये हत्या है. इस हत्या (murder) के लिए मध्यप्रदेश (madhya pradesh)की पूरी सरकार जिम्मेदार है. इसके खिलाफ बीजेपी अनुसूचित जाति मोर्चा आज प्रदेश भर में आंदोलन करेगा और उसके बाद भारतीय जनता पार्टी (bjp) सागर में एक बड़ा आंदोलन करेगी.

मध्यप्रदेश के सागर जिले में आपसी विवाद के कारण मिट्टी का तेल डालकर जिंदा जलाए गए धन प्रसाद अहिरवार की उपचार के दौरान गुरुवार को दिल्ली में मौत हो गई थी. धन प्रसाद की मौत पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शोक जताया था. वहीं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने शासन-प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया था. अब बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि सागर में अनुसूचित जाति के युवक को जिंदा जला दिया गया. एक वर्ग विशेष के लोग उसे जलाने वालों में शामिल हैं.इसलिए सरकार ने उन्हें खुली छूट दी. पहले तीन दिन तक कोई गिरफ्तारियां नहीं की गईं. बाद में दस बारह लोगों में से तीन चार लोगों को गिरफ्तार किया गया. जब भारतीय जनता पार्टी का प्रतिनिधिमंडल सागर पहुंचा. मैंने खुद वहां बातचीत की तो उस गरीब आदमी को सागर से उठाकर भोपाल के सरकारी अस्पताल में जनरल वॉर्ड में तडपने को छोड़ दिया गया. राकेश सिंह ने कहा, मैंने केन्द्र में बातचीत की और केन्द्र में अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष रामशंकर कठेरिया से चर्चा की. केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत से बातचीत की. उसके बाद आयोग के उपाध्यक्ष एल.मुरूगन जी यहां पर आए आकर उन्होंने अधिकारियों को लताड़ लगाई और कहा कि उस गरीब आदमी को आपने मरने के लिए जनरल वार्ड में छोड़ दिया. उसके बाद उसको दिल्ली शिफ्ट किया गया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी.
राकेश सिंह ने कहा-एक अनुसूचित जाति का भाई इस संसार को छोड़कर चला गया. वास्तव में ये हत्या है और इस हत्या के लिए कोई जिम्मेदार है तो वो लोग जिन्होंने उसको जिंदा जलाया. उनके साथ कमलनाथ जी की पूरी सरकार इस हत्या के लिए जिम्मेदार है. हमने तय किया है कि इस मुद्दे को हम छोड़ने वाले नहीं हैं. शनिवार को भारतीय जनता पार्टी का अनुसूचित जाति मोर्चा अपनी तरफ से आंदोलन कर रहा है. उसके बाद हम सभी सागर जाएंगे और सागर जाकर इस सरकार को कठघरे में खड़ा करेंगे.

ये है पूरा मामला

सागर जिले की अयोध्या बस्ती में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने आवास में रहने वाले 24 साल के धनप्रसाद अहिरवार पर आपसी विवाद के चलते कुछ लोगों ने मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी थी.धन प्रसाद को गंभीर हालत में सागर के बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया. वहां से उसे भोपाल भेज दिया गया. इसके बाद 21 जनवरी की रात को एयर एंबुलेंस से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में शिफ्ट किया गया था. लेकिन उपचार के दौरान गुरूवार को उसकी मौत हो गई. धनप्रसाद के परिवार का कहना है कि विवाद की पुलिस में शिकायत करने के बाद भी उसने कार्रवाई नहीं की.