नई दिल्ली नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर छिड़ा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने गृह मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से कहा है कि गृह मंत्री अमित शाह ने अपना शिलॉन्ग प्रोग्राम कैंसल कर दिया है। वह नॉर्थ ईस्ट पुलिस अकैडमी के दौरे पर रविवार को शिलॉन्ग जाने वाले थे। हालांकि मंत्रालय की तरफ से अभी तक दौरा रद्द करने का अधिकारिक कारण नहीं बताया गया है।
बताया जा रहा है कि अमित शाह कल और सोमवार को झारखंड में होंगे। सूत्रों ने भले ही उनका कार्यक्रम रद्द होने का कारण नहीं बताया हो, लेकिन माना जा रहा है कि उत्तर पूर्वी राज्यों में तनाव की स्थिति को देखते हुए गृह मंत्रालय ने यह कदम उठाया है।

बता दें कि बुधवार को नागरिकता संशोधन बिल पास होने के बाद से ही उत्तर पूर्वी राज्यों में तनाव की स्थिति है। असम, मेघालय और त्रिपुरा के हालात काफी मुश्किल हैं। असम में 22 दिसंबर तक स्कूल और कॉलेजों को बंद किया गया है। सेना और पुलिस की तैनाती के बावजूद लोग कर्फ्यू का उल्लंघन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री, राज्यपाल, गृहमंत्री और यहां तक कि प्रधानमंत्री की अपील का भी कोई असर नहीं पड़ा है।

मेघालय और असम में इंटरनेट सेवाएं बंद हैं। इस बीच असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि राज्‍य में हिंसा के पीछे ऑल असम स्‍टूडेंट यूनियन और अन्‍य स्‍थानीय समूहों का हाथ नहीं है। हिंसा के पीछे 'उन नकारात्‍मक ताकतों का हाथ है जो शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों में शामिल हो गए हैं।' उन्‍होंने कहा कि हम इन नकारात्‍मक शक्तियों की पहचान कर रहे हैं। मेघालय में भी अनिश्चितकालीन कर्फ्यू के बीच प्रदर्शनों का दौर जारी है। गुरुवार को शिलॉन्ग में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बाजार इलाके में दुकानों को आग लगा दी।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के आश्‍वासन के बाद त्रिपुरा में प्रदर्शनकारियों ने भले ही अपना विरोध खत्‍म कर दिया हो, लेकिन वहां भी इंटरनेट और एसएमएस सेवाएं बंद हैं। गुरुवार को आदिवासी बहुल इलाकों में तनाव बना रहा। अधिकारियों ने बताया कि ग्रामीण इलाकों में अभी भी स्थिति में सुधार नहीं हुआ है।