रामनगर बाराबंकी.लोधेश्वर महादेवा के फाल्गुनी मेले में कांवरिये श्रद्धालुओं का जहां आना जारी है. वहीं व्यवस्थाओं की कमी साफ झलक रही है. अभरण तालाब के पास पुलिस व्यवस्था न होने से आने वाले कांवरिया डंडा लेकर मेले में आ जा रहे हैं. इसके अलावा गन्ना भरी ओवरलोड ट्रके भी मेला के अंदर से निकल रही है. जिससे हादसा होने की संभावना बनी हुई है. अभी पूरे मेला परिसर में बिजली की व्यवस्था भी सही नहीं हो सकी है. और पानी की भी समस्या है. शौचालयों के पास हैंडपंप लगाने की जरूरत है .बोहनिया तालाब पर आने वाले कांवरिया रुक कर स्नान करते हैं. यहां पुलिस फोर्स व गोताखोरों की सख्त जरूरत है .फिर भी प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है.बोहनिया तालाब पर बैरिकेडिंग भी नहीं कराई गई है. जबकि यहां पर बैरिकेडिंग कराकर नेहरू युवा केंद्र के वालंटियर लगाए जाते हैं. जो आने वाले कांवरियों की राम टीकानी जमा करते हैं.और उनको पर्ची देकर मेला से वापसी के बाद राम टीकानी वापस करते हैं .इसी तरह पुलिस चौकी महादेवा में पंडाल तो लग गया है.लेकिन अन्य व्यवस्थाएं नदारद है. अभी पुलिस भी पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पाई है. इसके अलावा मेले में कई जगह साफ सफाई की जरूरत महसूस हो रही है.लाई दाना, खाना बेचने वाले दुकानदार अभी रेट बोर्ड भी नहीं लगाये है.और कई दुकानदार डस्टबिन भी नहीं रखे हुए हैं.

प्रशासनिक अधिकारियों को पूरा मेला क्षेत्र भ्रमण कर दुकानदारों को निर्देश देने का काम नहीं किए जाने से यह समस्या बनी हुई है. कांवरियो की रफ्तार धीरे-धीरे बढ़ रही है. और मेले में रौनक भी आती जा रही है. बस इंतजार है तो संपूर्ण व्यवस्थाओं की कांवरियों के सुविधा के लिए प्रशासन जो भी कर सकता है वह करें. अभी तक व्यवस्थाओं के नाम पर कुछ भी नहीं है. सिर्फ अवस्थाएं ही बोल रही है.पुलिस के अलावा किसी विभाग का कोई कार्य नजर नहीं आ रहा है. इतने बड़े संवेदनशील मेले को भी हल्के में ले रहा प्रशासन.