इन्दौर । रियल इवेंट्स द्वारा आयोजित मालवा रत्न सम्मान में हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए पूरे देश में अलख जगाने वाले, मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष, हिन्दी योद्धा डॉ.अर्पण जैन 'अविचल' को मालवा रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया।
गौरतलब है कि 100 वर्ष पहले इसी मालवा की धरती से 29 मार्च 1918 को साहित्य समिति की नींव रखते हुए राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने का संकल्प लिया था और आज 100 वर्षों बाद भी हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने का संकल्प लेकर सम्पूर्ण राष्ट्र में क्रांति भी मालवा की धरती इन्दौर से ही डॉ.अर्पण जैन अविचल के माध्यम से आरंभ हुई जो आज तक लगभग 11 लाख से अधिक समर्थकों तक पहुँच चुकी हैं।
मालवा की गम्भीर धरती सदा से ही रत्नों की खान है। इसी योगदान और संघर्ष के चलते संस्था द्वारा डॉ.जैन को मालवा रत्न सम्मान दिया हैं। डॉ.जैन के साथ संस्थान के संवाद सेतु पंकज शर्मा को भी मालवा रत्न सम्मान मिला है। संस्थान के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. नीना जोशी, राष्ट्रीय महासचिव कमलेश कमल, कार्यकारिणी सदस्य शिखा जैन, गणतंत्र ओजस्वी, मुकेश मोलवा, अंजलि वैद सहित दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष रिंकल शर्मा आदि सभी पदाधिकारियों ने शुभकामनाएं प्रेषित कर अभिनंदन किया।