जमैका के फर्राटा धावक योहान ब्लैक की नजरें टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण जीतने पर हैं। ब्लैक का यह आखिरी ओलंपिक होगा। उन्होंने कहा, ‘यह मेरा आखिरी ओलंपिक है और निश्चित तौर पर मैं स्वर्ण जीतना चाहता हूं।' ओलंपिक में दो स्वर्ण और दो रजत पदक जीत चुके ब्लैक ने कहा, ‘मुझे अतीत में कई पदक मिले हैं परन्तु यह मेरे लिये सबसे बेहतर होगा।'
ब्लैक ने कहा, ‘मैं हमेशा पदक का प्रबल दावेदार रहता हूं। हर किसी की नजरें मुझ पर होती है। कुछ अच्छे खिलाड़ी भी हैं और मुझे चुनौती का इंतजार रहेगा।' उन्होंने कहा, ‘ओलंपिक दुनिया का सबसे बड़ा आयोजन है और सभी को 100 मीटर दौड़ का इंतजार रहता है।' ब्लैक यहां यहां ‘रोड सेफ्टी विश्व सीरिज' टी20 श्रृंखला के प्रचार के लिए आए थे जो अगले साल फरवरी में होगी। उन्होंने यह भी कहा कि वह भारत में प्रतिभा तलाश कार्यक्रम शुरू करना चाहते हैं। 
विराट के हैं प्रशंसक 
उन्होंने कहा, ‘मैं वेस्टइंडीज के क्रिकेटरों से कहता हूं कि भारत को देखो। विराट कोहली और उसके जैसे क्रिकेटर। फर्राटा में वे हमारा अनुसरण करते हैं तो इसमें कोई बुराई नहीं। मैं ओलंपिक के बाद यहां प्रतिभा तलाश कार्यक्रम से जुड़ने की सोच रहा हूं। बोल्ट के साथ 1 दशक से ज्यादा समय तक दौड़ने वाले ब्लैक ने 2011 में दाएगू विश्व चैम्पियनशिप में 100 मीटर में स्वर्ण पदक जीता था। वहां बोल्ट भी थे लेकिन वह फाइनल में डिसक्वालीफाई हो गए थे। इसके अलावा ब्लैक ने 2012 और 2018 में जमैका राष्ट्रीय चैम्पियनशिप (ओलम्पिक क्वालीफायर) में बोल्ट को 200 मीटर में 2 बार हरा चुके हैं। ब्लैक आज की तारीख में 100 तथा 200 मीटर में दूसरे तीव्रतम धावक हैं।
ब्लैक ने कहा, मैं इस सीजन से सकारात्मकता लेकर जा रहा हूं। मैं अच्छी लय में हूं और अभ्यास में अच्छा महसूस कर रहा हूं। यह मेरा अंतिम ओलम्पिक होगा और मैं इसमें अपना सबकुछ झोंक देना चाहता हूं।
बोल्ट युग में पैदा नहीं होना चाहिए था 
योहान हमवतन बोल्ट की छत्रछाया से निकलकर नए कीर्तिमान स्थापित करना चाहते हैं। अगले साल जापान में होने वाले ओलम्पिक खेलों में बोल्ट नहीं होंगे क्योंकि वो संन्यास ले चुके हैं और ऐसे में यह ब्लैक के लिए मौका है, इसी कारण ब्लैक ने इस बार ओलम्पिक में 3 स्वर्ण पदक जीतने का लक्ष्य रखा है। ब्लैक ने यहां तक कहा कि वह ’गलत समय पर पैदा हुए’ लेकिन अब वह अपनी अलग पहचान कायम करना चाहते हैं।