डूंगरपुर. प्रदेश के आदिवासी बहुल डूंगरपुर जिले में सर्व शिक्षा अभियान (Sarva Shiksha Abhiyan) की ओर से होने वाले शिक्षक प्रशिक्षण (Teacher Training) में सागवाड़ा ब्लॉक (Sagwara Block) में लाखों रुपए की वित्तीय अनियमितता (Financial Irregularity) का मामला सामने आया है. मामला वर्ष 2014 से जुड़ा है. उस समय करीब 15 लाख 75 हजार रुपए सागवाड़ा ब्लॉक को शिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए सर्व शिक्षा अभियान की ओर से जारी हुए थे. उस राशि में से करीब 8 लाख 19 हजार की राशि का हिसाब नहीं मिल पा रहा है. ऑडिट में इस गड़बड़ी का खुलासा होने के बाद महालेखाकार ने 18 रिमांइडर भी भेजे, लेकिन सागवाड़ा ब्लॉक शिक्षा विभाग के पास इसका कोई जवाब नहीं है.

8 लाख 19 हजार की राशि का हिसाब सागवाड़ा कार्यालय ने नहीं दिया

दरअसल, राजस्थान शिक्षा परिषद की ओर से वर्ष 2014 में शिक्षकों में क्षमता संवर्धन एवं गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण की योजना बनाई गई थी. इस योजना के तहत शिक्षक प्रशिक्षण के लिए वर्ष 2014 में सर्व शिक्षा अभियान की ओर से जून व अगस्त माह में दो अलग किश्तों में कुल 15 लाख 75 हजार रुपए की राशि सागवाड़ा ब्लॉक कार्यालय के खाते में भेजी गई थी. वहीं सागवाड़ा के शिक्षा विभाग के ब्लॉक कार्यालय को इस पूरी राशि के खर्च और अलग-अलग मद के अनुसार दी गई राशि की डिटेल देनी थी. इसमें से सागवाड़ा ब्लॉक कार्यालय ने 7 लाख 62 हजार 772 रुपये का हिसाब तो विभाग को भेज दिया, लेकिन 8 लाख 19 हजार रुपये की राशि का हिसाब सागवाड़ा कार्यालय ने आज तक नहीं दिया.


सागवाड़ा ब्लॉक को भेज गए 18 रिमाइंडर

इसके लिए सागवाड़ा ब्लॉक में पिछले एक वर्ष के दरम्यान 18 रिमांइडर भेजे जा चुके हैं. इसके बावजूद आज तक सागवाड़ा ब्लॉक से कोई भी कार्मिक जिला मुख्यालय पर नहीं आ रहा है. हालांकि जिले के मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा कि राजस्थान शिक्षा परिषद ने सागवाड़ा ब्लॉक के सीबीईओ, लेखा-अधिकारी और एकाउंट हेड को अपनी कैश बुक और रिकॉर्ड के साथ 16 दिसंबर को जयपुर बुलाया है.