ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने बुधवार को पिछले महीने ईंधन की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार निर्दोष प्रदर्शनकारियों को रिहा करने की घोषणा की है।

ईरान सरकार ने 15 नवंबर को अप्रत्याशित रूप से इंधन की कीमत में 200 फीसदी वृद्धि की घोषणा की थी जिसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे। ईरान ने अभी यह स्पष्ट नहीं किया है कि प्रदर्शन के दौरान इमारतों में आग लगाने और दुकानों में लूटपाट करने के आरोप में कितने लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

रुहानी ने कहा कि जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनमें कुछ निर्दोष हैं और उन्हें रिहा किया जाना चाहिए। इसके साथ ही रुहानी ने स्पष्ट किया कि जिन्होंने हथियारों का इस्तेमाल किया या गंभीर अपराध किए हैं उनसे अलग से निपटा जाएगा। ईरान ने आरोप लगाया है कि प्रदर्शन के पीछे अमेरिका, इज़राइल और सऊदी अरब का हाथ है। उसने आरोप लगाया है कि राजशाही समर्थक और निर्वासित समूह पीपुल्स मजाहिदीन ऑफ ईरान इस हिंसा के पीछे हैं।