इन्दौर । विमानतल मार्ग स्थित श्रीश्री विद्याधाम पर आश्रम के रजत जयंती प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में चल रहे कोट्यार्चन अनुष्ठान में अब तक 25 लाख से अधिक अर्चन हो चुके हैं। आश्रम के महामंडलेश्वर स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती के सान्निध्य मंे गत 8 दिसंबर से 151 विद्वानों द्वारा ललिता सहस्त्रनामावली से मां जगदंबा की अर्चना की जा रही है। प्रतिदिन तीन सत्रों में सुबह 8 से 10, सांय 5.30 से 6.30 एवं रात्रि 9 से 10 बजे तक 151 भूदेव और भक्त मिलकर एक करोड़ मंत्रों से श्रीयंत्र पर मां ललिताम्बा की अर्चना का अनुष्ठान चला रहे हैं।  
आश्रम परिवार के पूनमचंद अग्रवाल एवं पं. दिनेश शर्मा ने बताया कि 51 दिवसीय इस अनुष्ठान मंे प्रतिदिन प्रातःकालीन सत्र में पं. उमेश तिवारी, पं. प्रशांत अग्निहोत्री, पं. विनीत उपाध्याय एवं पं. हरिओम शर्मा तथा सांयकालीन सत्र में आचार्य पं. राजेश शर्मा, पं. अश्विन भारद्वाज, पं. शक्ति उदेनिया तथा रात्रिकालीन सत्र में पं. अंकुर व्यास एवं पं. सचिन व्यास के आचार्यत्व में कोटयार्चन उपासना पूरे उत्साह के साथ हो रही है। अब तक हो चुकी गणना के अनुसार लक्ष्य तो श्रीयंत्र पर एक करोड़ अर्चन का है लेकिन जिस गति से विद्वान एवं भक्त शामिल हो रहे हैं, उसे देखते हुए लगता है कि अर्चन की संख्या लगभग दोगुनी से अधिक पहुंच जाएगी। इसकी पूर्णाहुति सग्रहमख ललिताम्बा महायज्ञ के साथ 3 फरवरी को होगी। आश्रम का रजत जयंती प्रकाशोत्सव माघ माह की गुप्त नवरात्र के उपलक्ष में 25 जनवरी से 3 फरवरी तक धूमधाम से मनाया जाएगा। इस दौरान भागवत ज्ञानयज्ञ, मां पराम्बा के नौकाविहार, शोभायात्रा, भव्य पुष्पबंगले एवं मां के दिव्य दर्शन सहित विभिन्न आयोजन होंगे।