जयपुर. कोरोना संक्रमण (COVID-19) के चलते प्रदेश में आज से ठीक 100 दिन पहले लॉकडाउन (Lockdown) लगाया गया था. 22 मार्च को लॉकडाउन लगाकर राजस्थान (Rajasthan) देश में सबसे पहले कोविड-19 के तहत ऐसा कदम उठाने वाला पहला राज्य बना था. 22 मार्च से लेकर अब तक लॉकडाउन के चार चरण पूरे हो चुके है. पांचवां चरण चल रहा है. लेकिन इन 100 दिनों के लॉकडाउन में प्रदेश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 17 हज़ार के पार पहुंच गया है. जैसे-जैसे चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन में छूट मिलती गई, वैसे-वैसे कोरोना के आंकड़े भी बढ़ते गए. 21 मार्च को प्रदेश में कोरोना के महज 25 केस थे और एक भी मौत नहीं हुई थी. लेकिन आज पॉजिटिव मामले 17,271 हो गए और 399 लोग इस महामारी के चलते अकाल मौत के शिकार हो चुके हैं.

लॉकडाउन 3.0 से बढ़ा छूट का दायरा
लॉकडाउन 2.0 के बाद 4 मई से शुरू हुआ लॉकडाउन 3.0 जो 17 मई तक चला. इसमें केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने पूरे देश में जिलों को तीन जोन में बांटा. रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन. प्रदेश के 7 जिले ग्रीन जोन में आए. जोन वाइज सभी जगह बाजार खोलने, बसें चलाने औऱ अन्य छूट प्रदान की गई. लेकिन रेड जोन में कुछ नहीं बदला. वहां सब कुछ पहले की तरह ही चलता रहा. 14 दिन के इस लॉकडाउन में सरकारी दफ्तरों में 33 प्रतिशत कर्मचारी बुलाने की छूट दी गई. इसके अलावा ग्रीन और ऑरेंज जोन में बाजार खोलने की अनुमति भी प्रदान की गई. लॉकडाउन 3.0 में लोगों को घर से बाहर निकलने की इजाज़त भी मिली.

श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं
इस लॉकडाउन में राज्य की मांग पर केन्द्र ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने की निर्णय लिया. इससे लोग अपने-अपने राज्यों में पहुंचने लगे. इसके बाद 18 मई से 31 मई तक प्रदेश में चला लॉक डाउन 4.0. इसमें राज्यों को जोन चिन्हित करने का अधिकार दिया गया. उसके बाद जिले की जगह क्षेत्र के आधार पर जोन तय किए गए. लॉकडाउन 4.0 में कंटेनमेंट जोन को छोड़कर सभी जगह कई तरह की छूट दे दी गई, जिससे आमजन जीवन फिर से पटरी पर आने लगा.

लॉकडाउन 5.0/अनलॉक1.0 में बढ़े मामले
उसके बाद शुरू हुआ लॉकडाउन 5.0, जिसे Unlock 1.0 का नाम दिया गया. यह 1 जून से शुरू हुआ यह पीरियड 30 जून तक चलेगा. इसमें लगभग सबकुछ पहले जैसा ही हो गया. पूर्ण क्षमता से दफ्तर खुल गए. बसें पूरी क्षमता से चलाने की अनुमति मिल गई. प्रतिष्ठान खोलने की समय भी रात 9 बजे तक बढ़ा दिया गया. अनलॉक 1.0 में धार्मिक स्थल, जिम, स्कूल, कॉलेज, कोचिंग को छोड़कर सबकुछ अनलॉक कर दिया गया. लेकिन इस 100 दिन के लॉकडाउन में कोरोना पॉजिटिव और उससे मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही गया.

30 जून के बाद खुलेंगे धार्मिक स्थल
प्रदेश में 30 जून के बाद ग्रामीण क्षेत्र में धार्मिक स्थल खुल जाएंगे. लेकिन इसमें केवल वे ही धार्मिक स्थल शामिल होंगे, जहां श्रृद्धालुओं की रोज आवक 50 या इससे कम रहती है. इसे लेकर मुख्यमंत्री ने रविवार रात को निर्देश जारी कर दिए. लेकिन शहर और ग्रामीण क्षेत्र के वो धार्मिक स्थल जहां भीड़ ज्यादा रहती है वो फिहहाल बंद ही रहेंगे. जिम, थिएटर सहित कई लॉक चीजे अनलॉक होने की भी उम्मीद है. लेकिन डर केवल इसी बात का है कि जैसे-जैसे सब कुछ अनलॉक होता जा रहा है कोरोना आउट ऑफ कंट्रोल हो रहा है.