रायपुर,। भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरानी ने सोमवार को राजधानी के एक कांग्रेस पार्षद कामरान अंसारी द्वारा आदिवासी युवक व उसकी माँ के साथ की गई बेरहम मारपीट व बदसलूकी की घटना पर प्रदेश सरकार पर फिर निशाना साधा और कहा है कि आरोपी पार्षद के खिलाफ केवल एफआईआर दर्ज करके प्रदेश सरकार अपने दायित्व की इतिश्री न माने, बल्कि आरोपी पार्षद की तत्काल गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए। श्री सुन्दरानी ने पूछा कि एफआईआर दर्ज करने के बाद आरोपी पार्षद और अन्य आरोपियों को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है? क्या सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी के जनप्रतिनिधियों को किसी के भी साथ बेरहम मारपीट और अपराध करने की छूट है?
भाजपा जिलाध्यक्ष श्री सुन्दरानी ने कहा कि प्रदेश सरकार के राजनीतिक संरक्षण में सत्तारूढ़ कांग्रेस के नेता, जनप्रतिनिधि और उनके परिजन हिंसक अराजकता का उत्सव मना रहे हैं और कानून का उन्हें कोई खौफ नहीं रह गया है। सोमवार को अपनी माँ के साथ अपने वार्ड पार्षद के पास पहुँचे एक आदिवासी युवक व उसकी मां को सत्ता के नशे में चूर पार्षद अंसारी और उनके लोगों ने बेरहमी से सरेआम पीटकर संवेदनहीनता का जो शर्मनाक प्रदर्शन किया है, भाजपा उसकी भर्त्सना करती है और पीड़ित आदिवासी युवक व उसकी माँ को इंसाफ दिलाने की अपनी प्रतिबद्धता दुहराती है। 
भाजपा जिलाध्यक्ष श्री सुन्दरानी ने कहा कि प्रदेश इस बात का साक्षी है कि अमूमन सभी अपराधों में कांग्रेस नेताओं, जनप्रतिनिधियों और उनके परिजनों की संलिप्तता उजागर होने के बावजूद उन पर न तो कोई कानूनन और न ही संगठन के स्तर पर कार्रवाई की गई, उल्टे आरोपियों को पुलिस की मौजूदगी में सत्ता की धौंस दिखाकर कांग्रेस के नेता अपने साथ लेकर जाने जैसा शर्मनाक उदाहरण पेश कर चुके हैं। श्री सुन्दरानी ने कहा कि कांग्रेस के नेता गांधीगिरी सीखने वर्धा जाने की नौटंकी करके अपना वक्त जाया ही कर रहे हैं क्योंकि एक तरफ गांधी की दुहाई देते हैं तो दूसरी तरफ पार्टी का एक जनप्रतिनिधि हिंसा करके अराजकता फैलाने में लगा है!