भोपाल। राजधानी के सनसनीखेज प्यारे मियां द्वारा किए गए यौन शोषण मामले मे एक पीडीत नाबालिग की मौत ओर अन्य किशोरियो की तबीयत खराब होने के मामले में जांच के लिए राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम परिजनों के साथ ही किशोरियो से मिलकर उनके ब्यान दर्ज करेगी। जानकारी के अनुसार अपनी जांच के दौरान टीम, विभाग के डायरेक्टर, कलेक्टर भोपाल, संबंधित एसपी, सीडब्ल्यूसी सदस्यों, बच्चों से बातचीत कर रहे काउंसलर्स, डॉक्टर्स और एक्सपर्ट की टीम, मामले के विवेचना अधिकारी के साथ-साथ बालिका गृह के स्टाफ, अभिभावक, पीड़ित बालिकाओं और अन्य बच्चियों से मुलाकात करेगी। वहीं घटना के बाद आक्रोशित ओर चिंतित पीडीताओ के परिवार वालो द्वारा चारों बच्चियों को उन्हे सौपे जाने की मांग पर बाल कल्‍याण समिति (सीडब्‍ल्‍यूसी) फैसला ले सकती है। गौरतलब है कि पांच में एक लड़की की बालिका गृह में प्रशासन की अभिरक्षा में रहने के दौरान मौत हो गई। इसके बाद बाकी बच्चियों के माता-पिता अपनी बेटी को घर ले जाने की मांग कर रहे हैं।