नई दिल्‍ली। वित मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्तीय स्थिरता एवं विकास परिषद (एफएसडीसी) की एक बैठक को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अध्‍यक्षता की। सीतारमण ने इस बैठक में कोरोना वायरस की महामारी के बीच वित्तीय स्थिरता को बनाए रखने के उपायों की भी समीक्षा किया। उल्‍लेखनीय है कि मोदी सरकार के 2019 में दोबारा से सत्ता में आने के बाद एफएसडीसी की ये तीसरी बैठक है।

वित्त मंत्रालय ने एक ट्वीट में कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण गुरुवार को यहां आयोजित वीडियो कांफेंसिंग के जरिए 22वें वित्तीय स्थिरता एवं विकास परिषद (एफएसडीसी) की बैठक की अध्यक्षता कर रही हैं। एफएसडीसी की बैठक में कोविड‑19 के संदर्भ में वित्तीय स्थिरता बनाए रखने के उपायों की समीक्षा की जाएगी।

एफएसडीसी के सदस्यों में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के गवर्नर, भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (सेबी) और पेंशन निधि विनियामक एवं विकास प्राधिकरण के तीनों अध्यक्ष शामिल हैं। इसके साथ ही वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने भी बैठक में हिस्सा लिया।

उल्‍लेखनीय है कि यह बैठक ऐसे समय में हुई है, जब कोरोना-19 की महामारी और उसे रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से अर्थव्यवस्था बुरे दौर से गुजर रही है। केंद्र सरकार ने आत्‍मनिर्भर भारत अभियान के तहत आर्थिक पैकेज की घोषणा की है। वहीं, आरबीआई ने भी पिछले सप्ताह वित्त वर्ष 2020–21 के लिए भारत की जीडीपी में नकारात्मक वृद्धि दर का अनुमान जाहिर किया था।