अहमदाबाद । गुजरात के अरब सागर में अब एक नए चक्रवात की स्थिति बन रही है। इसके 03 जून के आसपास गुजरात के तट से टकराने की आशंका है। साइक्लोनिक का मूवमेंट आने वाले दिनों में तय करेगा कि वह आएगा या नहीं। निकट भविष्य में अरब सागर के दक्षिण‑पूर्व में चक्रवाती परिसंचरण कम दबाव बना सकता है। गुजरात में भी 03 जून तक कम दबाव के चलते इसके विभाजित होने की भी संभावना है। इसलिए देश के गुजरात और महाराष्ट्र में जून की शुरुआत से भारी बारिश हो सकती है।

मौसम भविष्यवेता अंबालाल पटेल ने बताया कि उत्तर गुजरात और कच्छ में 27 से 31 मई तक गरज के साथ छींटे पड़ने का अनुमान है। अरब सागर में 1 से 7 जून तक तूफान के सक्रिय होने की भी आशंका है। इसलिए 7 जून को समुद्र में ऊंची-ऊंची लहरें उठेंगी। तटीय इलाकों में 13 से 15 जून तक बारिश होने की भी आशंका है। इसलिए 8 से 15 जून के बीच तटीय इलाकों में तेज हवा चलेगी। उत्तर गुजरात और कच्छ के कुछ हिस्सों में गरज के साथ बारिश होगी।

पटेल ने एक बड़ा पूर्वानुमान लगाया है कि 27 से 31 मई के बीच राज्य के कुछ हिस्सों में धूल भरी आंधी चलने की खबर है। उत्तर गुजरात, कच्छ के कुछ हिस्सों में उथल‑पुथल होगी। 25 से 30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तूफान आएगा। इसने 01 से 07 जून तक अरब सागर में तूफान की भी संभावना है।