जयपुर. डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Deputy CM Sachin Pilot) ने बीजेपी और केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने अभी तक श्रमिकों को राहत देने के लिए कोई नीति नहीं बनाई है. श्रमिक सड़कों पर पैदल भूखा प्यास चल रहा है. प्रियंका गांधी ने संवेदनशीलता दिखाते हुए 1000 बसें भेजी, लेकिन यूपी सरकार ने इसमें बाधाएं डाली. बसों को एंट्री नहीं दी. पहले कहा बसें लखनऊ भेजो. बसें बॉर्डर पर भेज दी तो कभी फिटनेस तो कभी कुछ कहकर अड़ंगे लगाए.

यूपी की योगी सरकार को जमकर घेरा

डिप्टी सीएम पायलट को शुक्रवार को जयपुर में मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास और यूपी कांग्रेस के सह प्रभारी सचिव जुबेर खान के साथ मीडिया से रू-ब-रू हो रहे थे. इस दौरान पायलट ने यूपी से श्रमिकों की वापसी और बस के मुद्दे को लेकर यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार को जमकर घेरा. परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा कि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करके कहा था कि प्रियंका गांधी बसें भेजेंगी तो अनुमति दे दूंगा. लेकिन बसें भेजने के बाद 1032 बसों को बॉर्डर पर रोक लिया.

यूपी सरकार ने केंद्र के आदेश का उल्लंघन किया है

यूपी सरकार ने केंद्र के आदेश का उल्लंघन किया है. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए. कांग्रेस की बसों से फिटनेस सर्टिफिकेट मांगा. जबकि केंद्र ने अप्रैल में ही सभी राज्यों को निर्देश दिए कि 30 जून तक बसों को फिटनेस सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं होगी.