जयपुर. पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक विश्वेन्द्र सिंह (Vishvendra Singh) ने एक बार फिर ट्वीटर के जरिए विरोधियों पर निशाने साधे हैं. इस बार विश्वेन्द्र सिंह ने कविता की पंक्तियां ट्वीट (Tweet) कर सियासी हमला किया है. सचिन पायलट गुट (Sachin Pilot camp) के कांग्रेस विधायक विश्वेन्द्र सिंह ने एक ओर जहां विरोधियों पर निशाने साधे हैं वहीं दूसरी ओर इस बात के भी संकेत दिए हैं कि परिस्थितियां भले कितनी ही विपरीत क्यों ना हो वे सचिन पायलट के साथ खड़े रहेंगे और विरोधियों की नाक में भी दम करते रहेंगे.विश्वेन्द्र सिंह सियासी संकट के दौरान पायलट खेमे के हरावल दस्ते में शामिल थे. इसके चलते उन्हें अपना मंत्री पद भी गंवाना पड़ा था. उसके बाद से विश्वेन्द्र सिंह ट्वीट के जरिए लगातार हमलावर हैं और अपने चिर-परिचित अंदाज में विरोधियों पर वार करते रहते हैं.

अब यह लिखा विश्वेन्द्र सिंह ने
विश्वेन्द्र सिंह ने आज ट्वीट पर कविता की जो पंक्तियां पोस्ट की हैं उसमें लिखा है कि "ना मैं उनके जैसे बिका हुआ हूं, ना सत्ता के लोभ में झुका हुआ हूं, अवाम मेरा अभिमान हैं, जिन्दा मेरा स्वाभिमान है. ज़ुबां से निकले हर शब्दों के साथ हमेशा खड़ा रहूंगा, पर्वत सा मैं अड़ा रहूंगा ! "


ये सूरजमल का वचन है बंधु
गौरतलब है कि विश्वेन्द्र सिंह ने मंगलवार रात भी इसी तरह की पंक्तियां ट्वीट की थी. उसमें भी विरोधियों पर निशाने साधे गए गए थे. मंगलवार रात को ट्वीट की गई पंक्तियों में लिखा था कि "हर संभव कोशिश करूंगा, पर्वत सा मैं अड़ा रहूंगा, काल बनके दुश्मन का मैं, उसकी छाती पे चढ़ा रहूंगा, ये सूरजमल का वचन है बंधु, स्वाभिमान की इस लड़ाई में सबसे आगे खड़ा रहूंगा, सबसे आगे खड़ा रहूंगा। " विश्वेन्द्र सिंह द्वारा ट्वीट की गई इन पंक्तियों के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं.

पायलट खेमे के विधायक हैं सिंह
सियासी संकट में पायलट खेमे में शामिल रहे विधायक बार-बार अलग-अलग तरीकों से सरकार और विरोधियों पर हमले कर रहे हैं. पिछले दिनों रमेश मीणा समेत दूसरे विधायकों ने विधानसभा में एससी-एसटी का मुद्दा उठाकर कांग्रेस के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी थी. वहीं हेमाराम चौधरी और बृजेन्द्र ओला ने विधानसभा में ही सरकार पर उनके क्षेत्र की जनता के साथ भेदभाव के आरोप लगाए थे. विश्वेन्द्र सिंह आम तौर पर ट्वीट के जरिए इशारों ही इशारों में विरोधियों पर निशाने साधते रहते हैं.