घरेलू डिजिटल पेमेंट ऐप पेटीएम की गूगल प्ले स्टोर पर वापसी हो गई है। पेटीएम ने एक ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी है। इससे पहले दोपहर में गूगल ने प्ले स्टोर से इस ऐप को हटाने की जानकारी दी थी। इसके बाद पेटीएम ने ट्वीट किया था कि उसका एंड्रॉयड ऐप नए डाउनलोड या अपडेट के लिए गूगल प्ले स्टोर पर अस्थायी तौर पर उपलब्ध नहीं है। हम जल्द ही वापसी करेंगे।

दोपहर में गूगल ने कहा था कि प्ले स्टोर फैंटेसी क्रिकेट, ऑनलाइन कसीनो और दूसरे गैंबलिंग ऐप को भारत में इजाजत नहीं देता है। अगर कोई ऐसा करता है तो यह पॉलिसी का वॉयलेशन है। पेटीएम पर इसी के तहत कार्रवाई की गई है। हालांकि गूगल की ओर से खबर लिखे जाने तक यह बात सामने नहीं आई कि चार घंटे ही में पेटीएम की वापसी कैसे हो गई? क्या पेटीएम ने उन नियमों का पालन किया है, जिसकी वजह से गूगल ने उसे प्ले स्टोर से हटा दिया था? पेटीएम ने ट्वीट में कहा कि हम वापस आ गए हैं। गूगल ने कहा है कि वह ऑनलाइन कसीनो और स्पोर्ट्स बेटिंग को सुविधा देने वाली गैरकानूनी गैंबलिंग की इजाजत नहीं दे सकता है। गूगल की प्रोडक्ट, एंड्रॉयड सिक्योरिटी और प्राइवेसी की वाइस प्रेसीडेंट सुजैन फ्रे ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, 'जब कोई ऐप इन पॉलिसीज का उल्लंघन करता है तो हम डवलपर को इसकी जानकारी देते हैं। जब तक डवलपर पॉलिसी के अनुसार बदलाव करता है तब तक ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया जाता है।'

पेटीएम देश के बड़े स्टार्टअप्स में से एक है। गूगल के पेमेंट प्लेटफॉर्म गूगल-पे से भी पेटीएम का सीधा मुकाबला है। 31 मार्च को खत्म हुए वित्त वर्ष 2019-20 में पेटीएम का रेवेन्यू बढ़कर 3 हजार 629 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है।