चीन के 59 ऐप्स को बैन करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ड्रैगन को बड़ा झटका दिया है. गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद सरकार चीन पर डिजिटल स्ट्राइक कर चुकी है. इन सबके बीच पीएम मोदी अब ऐप्स के मामले में भारत को आत्मनिर्भर बनाने में जुट गए हैं. उन्होंने शनिवार को कहा कि वह आत्मनिर्भर भारत ऐप इनोवेशन चैलेंज लॉन्च करने जा रहे हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे युवा आगे आएं और ट्विटर, फेसबुक और टिकटॉक जैसे भारतीय ऐप बनाएं. मैं भी इन्हें ज्वॉइन करूंगा. पीएम मोदी ने ट्वीट किया कि आज मेड इन इंडिया ऐप्स बनाने के लिए तकनीकी और स्टार्टअप कम्युनिटी के बीच अपार उत्साह है. इसलिए @GoI_MeitY और @AIMtoInnovate मिलकर इनोवेशन चैलेंज शुरू कर रहे हैं.
पीएम मोदी ने आगे कहा कि अगर आपके पास कोई ऐसा प्रोडक्ट है या फिर आपको लगता है कि कुछ अच्छा करने का दृष्टिकोण और क्षमता है तो टेक कम्युनिटी के साथ जुड़ जाइए. प्रधानमंत्री मोदी ने लिंक्डइन पर अपने विचार रखे हैं.
चीन के खिलाफ आक्रामक हुई सरकार

बता दें कि 15 जून की घटना के बाद मोदी सरकार चीन के खिलाफ काफी आक्रामक हो गई है. शुक्रवार को ही पीएम मोदी ने लेह का दौरा किया और बिना नाम लिए चीन पर हमला बोला. पीएम मोदी ने यहां पर जवानों का हौसला बढ़ाया. प्रधानमंत्री ने लेह में घायल जवानों से मुलाकात के दौरान कहा कि भारत न कभी झुका है और न ही झुकेगा.

चीन पर निशाना साधते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि विस्तारवाद का युग खत्म हो चुका है. अब विकासवाद का समय आ गया है. तेजी से बदलते हुए समय में विकासवाद ही प्रासंगिक है. विकासवाद के लिए अवसर है और विकासवाद ही भविष्य का आधार है. पीएम मोदी के इस बयान से चीन को मिर्ची लग गई. नई दिल्ली स्थित चीन के दूतावास ने कहा है कि हमें विस्तारवादी कहना आधारहीन है. हमने 14 में से 12 पड़ोसी देशों के साथ सीमा विवाद सुलझाया है.