झुंझुनूं. राजस्थान में चल रहे पंचायत चुनावों (Panchayat elections) में कई दिलचस्प खबरें सामने आ रही हैं. ऐसी ही एक दिलचस्प खबरआई है झुंझुनूं (Jhunjhunu) के खेतड़ी पंचायत समिति में स्थित गोठड़ा पंचायत से. यहां एक वार्ड ऐसा सामने आया है, जिसमें केवल पांच ही वोटर हैं. ये पांच वोटर अपना एक पंच चुनेंगे. इस वार्ड के पंच के लिए चुनाव मैदान में दो महिला उम्मीदवार हैं और वो दोनों इस वार्ड की नहीं हैं. बताया जा रहा है कि यह संभवतया देश का सबसे छोटा वार्ड हो सकता है.खेतड़ी पंचायत समिति में मतदाताओं के लिहाज से सबसे बड़ी गोठड़ा ग्राम पंचायत के वार्ड नंबर 41 की सीट सिर्फ 5 मतदाताओं के कारण हॉटस्पॉट बनी हुई है. पंच के लिए सामान्य महिला सीट होने की वजह से दो महिला उम्मीदवार आमने-सामने हैं. ये दोनों ही उम्मीदवार वार्ड नंबर 51 की रहने वाली हैं. 5 मतदाताओं वाले वार्ड में से कोई भी वार्ड पंच का चुनाव नहीं लड़ रहा है.

मतदाताओं से हर रोज मिलकर वोट देने की अपील
दोनों उम्मीदवार नामांकन भरने के बाद पांचों मतदाताओं से हर रोज जाकर वोट देने की अपील कर रही हैं. नामांकन होने के बाद से ही 41 नंबर वार्ड की सीट लोगों में चर्चा का विषय बनी हुई है. एक उम्मीदवार एमए बीएड है तो दूसरी एमए पास है. दोनों के पति सरकारी नौकरी में न होकर प्राइवेट कार्य कर रहे हैं. दोनों जहां से चुनाव लड़ रही है वहां पर उनके परिवार के कोई वोट नहीं है.

दोनों का चुनाव लड़ने का यह है मकसद
पहली वार्ड पंच उम्मीदवार कविता मीणा ने एमए हिंदी विशेष से उत्‍तीर्ण हैं. वह घर पर रहकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारियां कर रही है. चुनाव लड़ने के बारे में कविता का कहना है कि लोकतंत्र की प्रथम सीढ़ी वार्ड पंच की होती है. विकास के कार्य करवाने के लिए वे राजनीति में आ रही हैं. दूसरी उम्मीदवार सुशीला सैनी एमए, बीएड हैं. चुनाव लड़ने के बारे में उनका कहना है कि वे इसके माध्यम से सरकार की तरफ से मिलने वाली सुविधाओं को आमजन तक पहुंचाना चाहती हैं.

कॉपर प्रोजेक्ट के कर्मचारी ही रहते हैं यहां पर
खेतड़ी एसडीएम ने बताया कि गोठड़ा का यह वार्ड कॉपर प्रोजेक्ट के आवासीय क्षेत्र में आता है. यहां पर अधिकतर वे परिवार ही निवास करते हैं जो कॉपर प्रोजेक्ट में काम करते हैं. लेकिन उनके रिटायर होने के बाद यह वार्ड खाली होता रहा. अब यहां पर केवल पांच वोटर ही शेष बचे हैं.