शामली. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के शामली (Shamli) जिले के झिंझाना थाना क्षेत्र में शातिर गोकश को पकड़ने गई पुलिस (Police) टीम पर सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने हमला कर दिया. पुलिस की दो गाड़ियों को तोड़ डाला. इतना ही नहीं लोगों ने पुलिस टीम को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा. इस हमले में तीन पुलिसकर्मी घायल बताए जा रहे हैं. इस बीच पुलिस ने 125 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए गोकश अफज़ल समेत 30 लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

दरअसल, झिंझाना थाना क्षेत्र के गांव टपराना में पुलिस की टीम एक गोकश अफजल को पकड़ने गई थी. इस बात से नाराज होकर ग्रामीणों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया. भीड़ ने पुलिस को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. पुलिस की दो गाड़ियों पर पथराव कर शीशे भी तोड़ दिए. पथराव व मारपीट के दौरान 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए. पुलिस ने 45 नामजद व 80 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. साथ ही शातिर गोकश व मौके से 30 लोगों को गिरफ्तार किया है.

आरोपी को छुड़ाने के लिए किया हमला

एसपी शामली विनीत जायसवाल ने बताया कि मंगलवार देर रात ग्राम टपराना में पुलिस ने एक शातिर जिला बदर गोकश को पकड़ने के लिए दबिश दी और उसे हिरासत में लिया. जिसके बाद अभियुक्त के परिजन व सैकड़ों ग्रामीणों ने उसे छुड़ाने के लिए टीम पर हमला बोल दिया. इस हमले में तीन पुलिसकर्मी घायल हुए जबकि दो गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए गए. सूचना पाकर तुरंत आलाधिकारी कई थानों की फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे और उक्त गोकश के साथ 30 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इस मामले में 45 नामजद व 80 अज्ञात लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. जल्द ही अन्य अभियुक्तों की गिरफ़्तारी भी कर ली जाएगी. एसपी ने बताया कि घयल पुलिसकर्मियों का मेडिकल करवाया गया है. सभी खतरे से बाहर हैं. गांव में बड़ी संख्या में फोर्स तैनात है.

ग्रामीणों ने पुलिस पर लगाया अभद्रता का आरोप

वहीं दूसरी ओर ग्रामीणों का आरोप है कि बेवजह पुलिस युवक को गिरफ्तार करने पहुंची थी. ग्रामीणों ने पुलिस पर अभद्रता के साथ ही घरों में तोड़फोड़ का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि मारपीट कर आरोपी को ले जाया जा रहा था, जिसके विरोध में यह झगड़ा हुआ.