भोपाल। गांव के खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा निखारने के लिए अब मैदान की कमी से नहीं जूझना पड़ेगा। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग अब प्रदेश की हर पंचायत में खेल मैदान का निर्माण करवाने जा रहा है। पंचायत स्तर पर खेल मैदान की सुविधा मिलने के बाद खिलाड़ियों को अभ्यास में सुविधा होगी। शुक्रवार को चर्चा करते हुए प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पहली घोषणा को आज अमलीजामा पहनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने इसके आदेश जारी कर दिए हैं। वही आगे मंत्री सिसोदिया ने कहा कि 
 प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने सीएम शिवराज ने विपक्ष से भी सुझाव मांगे हैं। मंत्री सिसोदिया ने कहा सीएम की रचनात्मक पहल से विपक्ष के साथ मिलकर प्रदेश का विकास करना सरकार की पहली प्राथमिकता है। मंत्री सिसोदिया ने कहा की सीएम ने प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने प्रतिपक्ष से सुझाव मांगे हैं। सीएम के संकल्प को देखकर लगता है कि प्रदेश में काया कल्प होने की शुरुआत हो चुकी हैं।

प्रतिदिन अभ्यास करने मिलेगा ग्रामीणों प्रतिभाओं को मौका-

गांव में खेल मैदान नहीं होने से खिलाड़ियों को अभ्यास करने का मौका नहीं मिल पाता था। प्रैक्टिस की कमी से ग्रामीण खिलाड़ी खेलों में पीछे रह जाते थे। अब खेल मैदानों के निर्माण के बाद खिलाड़ियों को प्रतिदिन अभ्यास के लिए स्थान मिलने से फायदा होगा। यहां वह एथलेटिक्स, कबड्डी, खो-खो, फुटबाल, हैंडबाल, बास्केटबाल, क्रिकेट सहित अन्य कई प्रतियोगिताओं की तैयारी कर सकेंगे। साथ ही पंचायत स्तर पर आयोजित होने वाली प्रतियोगिताओं में भी मौका दिया जाएगा। ग्रामीण खिलाड़ियों के अच्छे प्रदर्शन के उपरांत उन्हें जिला, संभाग, राज्य सहित राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के उपरांत पुरस्कृत भी किया जाएगा।